Skip to content

Komi Ekta In Hindi Essay On Paropkar

  • Home
  • Newspapers Press
  • आध्यात्मिक लेख (Spiritual Articles)
    • Special spiritual articles
      • Baba Ji ne jaisa chaha vaisa jivan hum ji payen - nirankari satguru mata savinder hardev ji maharaj
      • Oneness Ekatav Ke bhaav ko apnakar aage badhte jayen - nirankari rajmata kulwant kaur ji
      • Oneness Ekatav - liaun layi nahin, apnaun lai - sulekh sathi, Delhi punjabi spiritual article lekh nirankari
      • Oneness Ekatav - parmatma ki anubhooti se hi aayega Ekatav - Satguru Baba Hardev Singh Ji Maharaj
      • Sadguru Kripa - hindi spiritual aadhyatmik lekh articl eby Champa Bhatia, Ranchi Jharkhand
      • sadguru sacha path pradarshak hai - mahatma gorakh nandan ji, patna, bihar
      • bhakt sadguru se, sadguru bhakt se prem karte hain---baba avtar singh ji maharaj nirankari
      • bhakt hamesha sadguru ka yash gaate hain - yugpravartak baba gurbachan singh ji maharaj nirankari
      • Maanav, Maanavta aur Dharm , lekhak Mahatma Kailash Kute, Editor Ek Nazar, Marathi, Mumbai
      • sadguru satguru ki pehchan - thoughts teachings of sadguru baba hardev singh ji maharaj nirankari
      • Brahmgyan Ek Amoolya Gyan -- Massa Singh Nirankari (Gwalior, Madhya Pradesh) Hindi Spiritual Article Lekh
    • Ram Kumar Sewak, Delhi
    • Anand Kumar 'Maanav'
    • PUNJABI ARTICLES of Ram Kumar Sewak
    • Sulekh Sathi, Delhi
    • Vinay Joshi, Delhi
    • Anindita Das, Siliguri, WB
    • Anita Wadhwa, Rohini, Delhi
    • Col. B.L. Sachdeva (Retd.)
    • Daulat Ram Malya, Jaipur, Rajasthan
    • Dharamveer Grover, Geeta Colony, Delhi
    • Dr. Dinesh Chamola "Shailesh", Dehradun, Uttrakhand
    • Gopi Chand Dogra, Rajgarh, HP
    • Shahanshah Baba Avtar Singh Ji Maharaj
  • Nirankari Baba Hardev Singh Ji Maharaj
    • mahapurush sachaee ki aawaz ko jagah jagah pahunchane mein ghabraate nahin
    • sant ya bhakt ki pechaan
    • mahapurshon ka jeevan samaaj ke liye roshan meenar
    • Nirankar Sab Dekh Raha Hai
    • Ram-Ram kehne matra se koi labh nahin hone wala
    • Nirankar, Niarakar, Wageguru, Allah, Bitthi, Vithova, Ram, Parmatma
    • Insaan ne apne liye khud narak bana liya
    • Prerak Vachan - Boond Bhaee Sagar
    • mamtamayi nirankari rajmata kulwant kaur ji
    • dhyan se gyan ki sambhaal
    • sabse uttam guru ki pooja
    • Kaun the Nirankari Baba Hardev Singh Ji Maharaj--Dainik Hindustan
    • brahmgyan tabhi phalta phoolta hai jab..
    • Simar Simar Simar sukh paya
    • mahapurush to sabko dil se pyar karte hain
    • bhakti mein gyan aur karm dono zaroori hain
    • Jab tak main main ki bhaavna rehti hai
    • nirankar ke jeevan mein utarte hi saara sansar sukhmay ho jaata hai
    • Gurmukh aur Manmukh mein kya antar fark hota hai
    • Brahmgyani turant aapki manokaamna poori kar dega
    • Nirankar kewal satsang bhawan tak seemit nahin hai, ye sarvatra hai
    • roop parivartan--sant nirankari magazone patrika editorial sampadkiya
    • Love thy Neighbour
    • Teen Kaal Hai Satya Tu
    • man ke jeete jeet
    • main shareer mein rehta hoon
    • Mahapurush aag lagane ka kaam nahin karte
    • pyar nishkaam bhaav se kiya jaata hai
    • गुरमुख गाय की तरह होता है और मनमुख सांप की तरह
    • sant na hote jagat mein, to jal marta sansaar
    • sant samagam hari katha, tulsi durlabh doy
    • apni karni te narak na paun thaur
    • sewadar bhai kanhaiya ki drishti se sab ki sewa karta hai
    • wahan par na guru hai aur na hi gyan hai
    • jab brahmgyani saadhu ka sang mil jaata hai, tabhi bhagwan (parmatma) ki jaankari prapt hoti hai
    • Kabira sadguru (satguru) kya kare jo sikhan mein chook
    • Sewa, Sumiran, Satsang aadi ki zaroorat kya hai, bhramgyan mukti
    • Mahapurushas are always thankful to God
    • sahansheel n hone ka dushparinaam
    • Atyachar jab bhi haara hai, santo mahapurshon
    • yeh sahansheelta nahin hai
    • Sahansheelta Ka Formula
    • hamen nashe ki kureeti se door rehna hai
    • Insaan Ka Asal Roop (Real face of human being)
    • sache gursikh ki pehchaan - nirankari baba gurbachan singh ji maharaj
    • Mahaanta shareer ki nahin, karm ki hai
    • Sant wahi hai jisme santo wale gun hon
    • Guru se vishwas aur pyar kam hota hai to
    • wah nirankar datar se juda hua nahin hai
    • Sant Mahapurush paropkari hote hain
    • parmatma Bhagwan hamen galat kaam karne se rokta kyun nahin hai
    • hum vaastav mein kitne bhakt hain
    • wo nirankari nahin hai jo..
    • gunon ka grahak banne se hi prabhu ki kripa prapt hoti hai
    • aisi awastha jab gurmukh ki ho jaati hai to
    • agar hum ne gurmukh ki kadr n ki to..
    • kewal guru mein aastha rakhne se kuchh nahin hota
    • to duniya khud hi hamari aur khinchti chali aayegi
    • gyan koi chamatkar ya karishma nahin hua karta
    • Jo gursikh ka niradar kar rahe hote hain wo guru ka hi niradar kar rahe hote hain
    • jeevan mein manmukh ki awastha ahankar mein hoti hai
    • Mahapurush apne oopar sab kuchh sehan karke bhi doosron ko sukh hi dete hain
    • Dainik Bhaskar about Nirankari Baba Hardev Singh Ji Maharaj
  • Writers (Spiritual Articles)
    • Rajesh Kumar, Lucknow, Uttra Pradesh
    • Harsewak Singh, Majitha, Amritsar, Punjab
    • Jitendra Mandal, USA
    • Joginder Singh, Delhi
    • Kavita Mashkoor, Mandi Gobindgarh, Punjab
    • K.S. Randhawa, Ludhiana, Punjab
    • Kuldeep Chand, Jogial, Pathankot, Punjab
    • Kumar Gagan, New Delhi
    • Mahipal Singh, Prem Nagar, Delhi
    • Maan Singh Maan Ji, Delhi
    • Manmohan Grover, Geeta Colony, Delhi
    • Minakshi Batra, Abohar, Punjab
    • Neeta Chandani, Jaipur, Rajasthan
    • Pawan Kumar Kohli, Tilak Nagar, Delhi
    • Ram Krishan 'maanav' Chitrakoot, Uttra Pradesh
    • R.K. Priye - writer
    • Ravinder Kumar, Ashok Vihar, Delhi-110052
    • Samir Rokadia (Mumbai)
    • Samresh Kumar, Jamshedpur, Jharkhand
    • Sarabjit Kaur, Ludhiana, Pb
    • Satish Talwar, Faridabad, Hry
    • Sharanjit Kaur, Delhi,
    • Sukdeo Patil, Kalyan, Mumbai
    • Sunil Harchandani, Kalyan, Mumbai
    • Surinder Kathuria (Rishikesh, Uttrakhand)
    • Tarlochan Dhillon, Ontario, Canada
    • Vimlesh Ahuja (Advocate), Delhi
    • Yash Gujjar, Delhi
    • Yogesh Nishad, Indore, M.P.
    • Yogesh Yadav, Malad, Mumbai
  • Ayurved - Gharelu Nuskhe

कौमी एकता सप्ताह 2018

कौमी एकता सप्ताह 2018 में सोमवार (19 नवंबर) से रविवार (25 नवंबर) तक मनाया जाएगा।

कौमी एकता सप्ताह

कौमी एकता सप्ताह या राष्ट्रीय एकता सप्ताह पूरे भारत में हर साल 19 नवंबर से 25 नवंबर तक मनाया जाता है। कौमी एकता सप्ताह के पूरे सप्ताह के समारोह के दौरान विशिष्ट विषयों से संबंधित प्रत्येक दिन विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। कुछ कार्यक्रम जैसे बैठकों, सेमिनारों, संगोष्ठियों, विशेष रूप से महान कार्यों, सांस्कृतिक गतिविधियाँ इस समारोह की विषय-वस्तु (राष्ट्रीय एकता या कौमी एकता सप्ताह, धर्मनिरपेक्षता, अहिंसा, भाषाई सौहार्द, विरोधी सांप्रदायिकता, सांस्कृतिक एकता, कमजोर वर्गों के विकास और खुशहाली, अल्पसंख्यकों के महिला और संरक्षण के मुद्दों) को उजागर करने के लिए आयोजित की जाती है। सप्ताह के उत्सव राष्ट्रीय एकता की शपथ के साथ शुरू होता है।

कौमी एकता सप्ताह और सार्वजनिक सद्भाव और राष्ट्रीय एकता की ताकत को मजबूत करने के लिए और बढ़ावा देने के लिये मनाया जाता है। पूरे सप्ताह का समारोह पुरानी परंपराओं, संस्कृति और सहिष्णुता की कीमत और भाईचारे की भारतीय समाज में एक बहु-धार्मिक और बहु सांस्कृतिक धर्मों की पुष्टि करने के लिए सभी को एक नया अवसर प्रदान करता है। ये सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने के लिए भी देश में निहित शक्ति और लचीलेपन को उजागर करने में सहायता करता है।

राष्ट्रीय एकता समारोह के दौरान भारत की स्वतंत्रता और ईमानदारी को संरक्षण और मजबूत करने की प्रतिज्ञा ली जाती है। प्रतिज्ञा में ये दृढ़ निश्चय किया जाता है कि सभी प्रकार के मतभेदों के साथ ही भाषा, संस्कृति, धर्म, क्षेत्र और राजनीतिक आपत्तियों के विवादों को निपटाने के लिये अहिंसा, शांति और विश्वास को जारी रखा जायेगा।

पूरे सप्ताह समारोह के शीर्षक हैं:

  • 19 नवंबर को राष्ट्रीय एकता दिवस।
  • 20 नवंबर को अल्पसंख्यक कल्याण दिवस।
  • 21 नवंबर को भाषाई सद्भाव दिवस।
  • 22 नवंबर को कमजोर वर्गों का दिवस।
  • 23 नवंबर को सांस्कृतिक एकता दिवस।
  • 24 नवंबर को महिला दिवस।
  • 25 नवंबर को संरक्षण दिवस।

कौमी एकता सप्ताह भारत में कैसे मनाया जाता है

कौमी एकता सप्ताह समारोह की शुरुआत चिह्नित करने के लिए प्रशासन द्वारा एक साइकिल रैली आयोजित की जाती है। पूरे सप्ताह के समारोह का उद्देश्य पूरे भारत में अलग संस्कृति के लोगों के बीच अखंडता, प्रेम, सद्भाव और भाईचारे की भावना का प्रसार करना है। साइकिल रैली में पूरे देश से विभिन्न स्कूलों से छात्र और गैर सरकारी संगठनों से स्वयंसेवक भाग लेते हैं।

कौमी एकता सप्ताह भारत में क्यों मनाया जाता है

कौमी एकता सप्ताह हर साल देश की विविधता (लगभग 66 भाषायें, 22 धर्मों, 29 राज्यों और अनेक जातियों) में एकता को बढ़ावा देने के लिये मनाया जाता है। ये राष्ट्र के निर्माण में मूल्यों और महिलाओं की भूमिका पर प्रकाश डालने के लिये मनाया जाता है। ये विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से महिलाओं की सामाजिक स्थिति के स्तर को बढ़ाने पर अत्यधिक ध्यान केंद्रित करता है। आम जनता को देश में दोनों मुद्दों लैंगिक समानता और अधिकारों के बारे में पता होना चाहिये और उनको समझना चाहिए।


Previous Story

विश्व धरोहर सप्ताह

Next Story

राष्ट्रीय एकता दिवस